Basic Computer Organization in Hindi

Computer Organization एक प्रकार है, जिसपे Computer बना हुआ है। इसके अंतर्गत वो सभी Function आते है। जिनपे Computer Perform करता है। Computer Fundamental का Basic Organization in Hindi Chapter काफी Important है। यहाँ पे Basic Computer Organization in Hindi की पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे।

 Basic Computer Organization in Hindi

जब से Computer बना है। तब से लेकर आज तक उसके आकार, प्रदर्शन, विश्वसनीयता में बदलाव होता रहा है। लेकिन Von Neuman के द्वारा उसके Basic Logical Structure (जो Store Program Concept है ) उसमे कोई बदलाव नहीं हुआ है। सभी Computer Raw input Data को Useful Information में बदलने के लिए पाँच Function पे Perform करते है।

Inputting – Computer System को निर्देश देने और Data दर्ज करने की प्रक्रिया Inputting कहलाती है।

Storing – Data और Instruction (निर्देश ) को Store करना ताकि ताकि जरुरत पड़ने पे उपलब्ध कराया जा सके।

Processing – Data को Convert करना और Mathematics Operation करना जैसे Add, Subtract, Multiply, Divide, Comparison करना आदि सब Processing कहलाती है।

Outputting – उपयोग करता के लिए Useful Information को Produce करने की प्रक्रिया Outputting कहलाती है।

Controlling – ऊपर जो Step बताये गए है। Inputting, Storing, Processing, Outputting, Controlling उन सभी कार्यो को करने के लिए Manner और Sequence को निर्देशित करना।

नीचे अब उन सभी Units के बारे में जानकारी दूंगा। जिनके द्वारा ये 5 बुनियादी कार्य होते है। ये सभी 6 Unit इकाई है, जो पाँच बुनियादी कार्यो को पूरा करते है।

  1. Input Unit
  2. Output Unit
  3. Storage Unit
  4. Arithmetic Logic Unit
  5. Control Unit
  6. Central Processing Unit

Input Unit in Hindi 

Computer System में Data को दर्ज करना और निर्देश देना आदि सब Input unit के द्वारा होता है। जब तक Computer में Data और Instruction नहीं दर्ज (Enter ) किया जायेगा। तब तक Computer Perform नहीं कर सकता। इसलिए किसी भी Computation पे ये पहला Step है। Data दर्ज करना Instruction देना ये सब Input devices की मदद से होता है जैसे – Typing के लिए Keyword , Mouse आदि Use होता है।

Input Devices in Hindi 

  1. Keyword
  2. Mouse
  3. Light Pen
  4. Scanner
  5. Microphone
  6. Barcode Reader
  7. Graphic Tablet
  8. Track Ball

Also Read – Front End Developer कैसे बने ?

Output Unit in Hindi

Data को दर्ज करने के बाद उसपे Perform Process करना उसको Convert करेगा। उसके बाद वो Display होगा। जो Data Computer में Enter करते है। वो Binary Form में होता है। उसको Human Readable में Convert करने Display करना आदि Output Unit का काम है।

Output Devices in Hindi

  1. Screen
  2. Monitor
  3. Printers
  4. Speaker

Output Unit द्वारा निम्नलिखित कार्य होते है। संक्षेप में –

  1. यहाँ Data को Human Understanding code Data में बदलता है।
  2. यह Outside World को बदले हुए Result की आपूर्ति करता है।

Storage Unit in Hindi

जब भी Computer में Data दर्ज किया जाता है। उसकी Processing होती है, लेकिन Computer में रखने के लिए स्थान चाहिए होता है। ताकि वो Process कर सके, Store कर सके, Output दे सके। इसी कार्य के लिए Computer में Design किया गया है, स्टोरेज यूनिट। Storage Unit के द्वारा Computer में Data को Store किया जाता है।

Computer में Storage unit दो प्रकार की होती है।

  1. Primary Storage
  2. Secondary Storage

1. Primary Storage in Hindi

Primary Storage इसे Computer की Main Memory भी कहा जाता है। इसका कार्य Data या Instruction को Process करना और जल्दी से Result देना आदि है। जो उसने Recent में Result Produce किया है , उनको Show करना।

इसको CPU काफी Fast Speed से Access करता है। क्युकी ये System में चिप के सर्किट की तरह लगी होती है, लेकिन ये temporery Memory है। क्युकी जब Computer Switch Off हो जाता है, तो ये Reset हो जाती है। इसकी Capacity काफी Limited होती है। वर्त्तमान के Computer में ये Storage Semiconductor की बानी हुई होती है। Primary Storage Device RAM है।

2. Secondary Storage in Hindi

Secondary Storage जो Auxiliary Storage होती है। ये Data को Long term Basis पर Store करता है। ये वो Data को Storage करता है। जिसपे Computer Currently Working में नहीं है, लेकिन Long Time के लिए Data को Store करता है। इसका उपयोग Primary Storage की Limit अस्थिर विशेषता को पूरा करने के लिए किया जाता है। Secondary Storage device कई प्रकार की होती है। लेकिन सबसे ज्यादा Use Magnetic disk का किया जाता है।

Arithmetic Logic Unit (ALU) In Hindi

Arithmetic Logic unit के द्वारा Computer अंकगणतीय Processing करता है। जैसे – Calculation , Comparison कार्य, Decision Making Operation अन्य Mathematics Operation ALU में होते है।

जब processing होती है, तब Computer सारे Data और Instruction को ALU के Primary Storage में Transfer कर देता है और जब जरुरत होती है तब ALU Processing करके सारे Result को फिर से Primary Storage को दे देता है।

Control Unit (CU) in Hindi

Control Unit Input और Output को Control करता है। जैसे –

– ALU को कैसे पता चलेगा। की अब Data को Storage Unit में भेजना है। Data Receive करके क्या करना है ? क्या Result Output devices को भेजना है ?

जब Computer Instruction को Receive करता है, tab Control unit उसको ALU को भेज देता है। ALU उसपे Calculation Work Perform करता है और Result Value को वो Control Unit को भेज देता है। फिर Control Unit का काम Output देना होता है Control unit में कई Logic Gates है, और उसके दो Important Component है।

  1. Program Counter (PC)
  2. Instruction Register (IR)

Central Processing Unit (CPU)

Central Processing Unit Computer का एक Primary Component है। CPU में Control Unit (CU) और और Arithmetic Logic Unit (ALU ) दोनों शामिल होते है। इसे Computer का Brain कहा जाता है। ये सभी decision Making Work और सभी Mathematics Calculation कर सकता है।

Leave a Reply